Five practices that may add extra years to your life

ADMIN 2018-05-01 09:18:15    HELTH 14165
Five practices that may add extra years to your life
New Delhi, 1 May (RNI) | A study claims that eating a healthy diet, exercising regularly, keeping a healthy body weight, not drinking too much alcohol, and not smoking during adulthood may add over a decade to the life expectancy of a person.



Researchers led by Harvard T H Chan School of Public Health also found that US women and men who maintained the healthiest lifestyles were 82 percent less likely to die from cardiovascular disease and 65 percent less likely to die from cancer when compared with those with the least healthy lifestyles over the course of the roughly 30-year study period.



The study published in the journal Circulation is the first comprehensive analysis of the impact of adopting low-risk lifestyle factors on life expectancy in the US.



Researchers analysed 34 years of data from 78,865 women and 27 years of data from 44,354 men.



They looked at how five low-risk lifestyle factors - not smoking, low body mass index (18.5-24.9 kilogramme per square metre), 30 minutes or more per day of moderate to vigorous physical activity, moderate alcohol intake (up to one glass of wine per day for women, or two glasses for men), and a healthy diet - might impact mortality.



For study participants who did not adopt any of the low-risk lifestyle factors, the researchers estimated that life expectancy at age 50 was 29 years for women and 25.5 years for men.



However, for those who adopted all five low-risk factors, life expectancy at age 50 was projected to be 43.1 years for women and 37.6 years for men, researchers said.



Women who maintained all five healthy habits gained, on average, 14 years of life, and men who did so gained 12 years, compared with those who did not maintain healthy habits, they said.



Compared with those who did not follow any of the healthy lifestyle habits, those who followed all five were 74 percent less likely to die during the study period.



The researchers also found that there was a dose-response relationship between each individual healthy lifestyle behaviour and a reduced risk of early death and that the combination of all five healthy behaviours was linked with the most additional years of life.

Related News

Helth

Common Food Allergies...
Jeevan Kautik Suralkar 2019-06-05 19:56:22
Mumbai, June 5 (RNI): Any food may cause an allergic reaction, but 90% of food allergies in children are caused by just 6 common foods or food groups—milk, eggs, peanuts, tree nuts, soy, and wheat. In adults, a similar percentage of serious allergies are caused by just 4 foods—peanuts, tree nuts, fish, and shellfish. Allergies to fruits and vegetables are much less common and usually less severe.Allergy to cow’s milk is among the most common hypersensitivity in young children, probably because it is the first foreign protein that many infants ingest in such a large quantity, especially if they are bottle-fed. If there is a cow’s-milk allergy, occasionally even a breastfed infant may have colic or eczema until milk and dairy foods are eliminated from the mother’s diet. Between 2 and 3 out of every 100 children younger than 3 years have allergy symptoms linked to cow’s milk.
पैरों के तलवों पर सरसों के तेल से मालिश के फायदे
Root News of India 2019-06-04 14:05:10
नई दिल्ली, 4 जून (आरएनआई) | सरसों के तेल का इस्तेमाल लगभग सभी घरों में किया जाता है। कोई खाना बनाने लिए तो कोई शरीर की मालिश करने के लिए इसे रोजाना इस्तेमाल करता हैं। सरसों का तेल सेहत के लिहाज से काफी फायदेमंद है। इस तेल में कई विटामिन, मिनरल्स और अन्य पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जो शरीर को फायदा पहुंचाते हैं।
Woman's Facial Injection for 'Liquid Nose Job' Left Her with Rare Eye Problem
Jeevan Kautik Suralkar 2019-06-03 23:11:30
Nagpur, June 3 (RNI): A woman's simple cosmetic procedure turned serious when an injection of facial filler into her nose led to blockages in her eye's blood vessels — a rare complication, according to a new report of the case.
उन्हाळ्यात निरोगी त्वचा कशी ठेवावी ?
Jeevan Kautik Suralkar 2019-05-26 14:18:00
उन्हात घरातून बाहेर पडल्यावर धूळ, माती, ऊन आणि प्रदूषण यांच्याशी सामना करावाच लागतो. या सर्वांमध्ये तुमची त्वचा खराब होण्याची शक्यता अधिक असते. चेहरा निस्तेज होणे, काळवंडणे, सुरकुत्या वाढणे अशा समस्या उद्भवतात. यासाठी स्पेशल स्किन केयर रूटीन फॉलो करण्याची गरज आहे. सोबतच केमिकल उत्पादनांपेक्षा काही घरगुती उपाय फायदेशीर ठरतात.
भेसळयुक्त मध कसे ओळखावे...
Jeevan Kautik Suralkar 2019-05-12 22:48:45
रोजच्या जीवनात आपण मध वापरत असतो पण आपल्याला हेच कळत नसत की आपण जे मध खातोय ते असली आहे की भेसळयुक्त. आयोडिनचा वापर करूनदेखील मधाच्या शुद्धतेची परीक्षा करता येते. थोडासा मध घेऊन पाण्यात मिसळा आणि त्यात आयोडीन टाका. आयोडीन मिसळल्यानंतर या मिश्रणाला निळा रंग प्राप्त झाल्यास मधात स्टार्च अथवा तत्सम पदार्थाची भेसळ करण्यात आल्याचे समजावे.
घंटों तक मोबाइल और कम्प्यूटर का इस्तेमाल से हो सकती है खतरनाक बीमारी
Root News of India 2019-05-06 12:40:47
नई दिल्ली, 6 मई (आरएनआई) | आज लोग ज्यादा समय तक कम्प्यूटर और मोबाइल का प्रयोग कर रहे हैं। लोग घंटों तक किसी न किसी तरह से इसका इस्तेमाल कर रहे हैं। पर वो इससे होने वाली बीमारियों से अंजान हैं। कम्प्यूटर और मोबाइल का ज्यादा इस्तेमाल करने से शरीर में कई प्रकार की बीमारियां पैदा होने का खतरा बढ़ जाता है। इन बीमारियों में टेक्स्ट नेक नाम की बीमारी गर्दन को झुकाकर लगातार इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स का यूज करने से होती है।
गुड़ का सेवन करना हमारे शरीर के लिए क्या क्या फायदे देता है
Shyam Singh Chandel 2019-02-19 21:18:15
मथुरा, 19 फरवरी (आरएनआई) अगर आप मीठा खाने के शौकीन है और चाह कर भी मीठा खाना नहीं छोड़ सकते तो आपके लिए सबसे अच्छा रहता है गुड़ का सेवन करना। गुड़ का सेवन करना हमारे शरीर के लिए बहुत अच्छा तो रहता ही है इसके साथ साथ यह आपके मीठा खाने की चाह को भी पूरा कर देता है। इसका सेवन करने से आपके शरीर को स्वास्थ लाभ भी होते है। लेकिन इसका अधिक मात्रा में सेवन करने से आपका पेट भी खराब हो सकता है और आपके शरीर पर गर्मी के कारण दाने भी पैदा हो सकते है। क्योंकि गुड़ की तासिर गर्म होती है। इसी कारण इसका सेवन भी एक सीमित मात्रा में ही करना चाहिए तभी आपको इसका फायदा होता है।
आंवला के गुण और उससे होने वाले आयुर्वेदिक इलाज
Shyam Singh Chandel 2019-02-19 20:34:49
मथुरा, 19 फरवरी (आरएनआई) आंवले का पेड़ भारत के प्राय: सभी प्रांतों में पैदा होता है। तुलसी की तरह आंवले का पेड़ भी धार्मिक दृष्टिकोण से पवित्र माना जाता है। स्त्रियां इसकी पूजा भी करती हैं। आंवले के पेड़ की ऊचांई लगभग 6 से 8 तक मीटर तक होती है। आंवले के पत्ते इमली के पत्तों की तरह लगभग आधा इंच लंबे होते हैं। इसके पुष्प हरे-पीले रंग के बहुत छोटे गुच्छों में लगते हैं तथा फल गोलाकार लगभग 2.5 से 5 सेमी व्यास के हरे, पीले रंग के होते हैं। पके फलों का रंग लालिमायुक्त होता है। खरबूजे की भांति फल पर 6 रेखाएं 6 खंडों का प्रतीक होती हैं। फल की गुठली में 6 कोष होते हैं, छोटे आंवलों में गूदा कम, रेशेदार और गुठली बड़ी होती है, औषधीय प्रयोग के लिए छोटे आंवले ही अधिक उपयुक्त होते हैं।आंवला युवकों को यौवन और बड़ों को युवा जैसी शक्ति प्रदान करता है। एक टॉनिक के रूप में आंवला शरीर और स्वास्थ्य के लिए अमृत के समान है। दिमागी परिश्रम करने वाले व्यक्तियों को वर्ष भर नियमित रूप से किसी भी विधि से आंवले का सेवन करने से दिमाग में तरावट और शक्ति मिलती है। कसैला आंवला खाने के बाद पानी पीने पर मीठा लगता है।
तुलसी के लाजवाब फायदे व रोगों के अचूक घरेलू नुस्खे
Shyam Singh Chandel 2019-02-19 20:28:43
मथुरा, 19 फरवरी (आरएनआई) तुलसी सभी का परिचित एक पवित्र पौधा है । इसका लेटिन नाम ‘ओसिमन सैन्कटम’ है। तुलसी की प्रकृति गर्म है। इसलिए गर्मियों में इसका कम मात्रा में सेवन करें । बड़ों के लिए 25 से 100 पत्ते और बालकों के लिए 5 से 25 पत्ते एक बार पीस कर शहद या गुड़ में मिलाकर नित्य 2-3 बार माह तक लें ।तुलसी के औषधीय गुण :
क्या हम वाकई अनजाने में अपने अनमोल जीवन को नष्ट कर रहे हैं?
Shyam Singh Chandel 2019-01-23 16:15:07
मथुरा, 23 जनवरी (आरएनआई) यदि आप निरोगी बनना चाहते हैं तो आपको आपकी दिनचर्या को बदलना पड़ेगा। क्योंकि आप जो दिनचर्या में जी रहे हैं उसने ही आपको रोगी बनाया है। हम जाने अनजाने में ही रोगों को अपने शरीर में घर देते हैं।
नीम के आयुर्वेदिक गुण और नुकसान
Shyam Singh Chandel 2019-01-22 21:29:46
मथुरा, 22 जनवरी (आरएनआई) नीम के आयुर्वेदिक गुण और नुकसान को इन क्रमो मे रखा जा सकता हैः-4. नीम की आयुर्वेदिक औषधियां
हजारों वर्षों से दादी-नानी के प्रमाणित नुस्खों व परंपराओं में बसी चिकित्सा को समझकर हम आयुर्वेदिक उपचार का सहारा लें।
Shyam Singh Chandel 2019-01-22 19:04:03
मथुरा, 22 जनवरी (आरएनआई) विश्व स्वास्थ्य संगठन की 1997 की एक रिर्पोट के अनुसार बाजार में बिक रही चैरासी हजार दवाओं में बहत्तर हजार दवाईओं पर तुरंत प्रतिबंध लगना चाहिए। क्योंकि ये दवाऐं हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं। लेकिन प्रतिबंध लगना तो दूर, आज इनकी संख्या दुगनी से भी अधिक हो गई है। जिस वैज्ञानिक चिकित्सा पद्धति का प्रत्येक क्रांतिकारी आविष्कार 10-15 वर्षों में ही नऐ आविष्कार के साथ अधूरा, अवैज्ञानिक व हानिकारक घोषित कर दिया जाता है। उसके पांच सितारा अस्पतालों, भव्य ऑपरेशन थियेटरों, गर्मी में भी कोट पहनने वाले बड़े-बड़े डिग्रीधारी डॉक्टरों से प्रभावित होने की बजाय यह अधिक श्रेष्ठ होगा कि हजारों वर्षों से दादी-नानी के प्रमाणित नुस्खों व परंपराओं में बसी चिकित्सा को समझकर हम आयुर्वेदिक उपचार का सहारा लें।
छुहारे का हलवा हमारे शरीर के लिये काफी फायदेमंद होता है
Shyam Singh Chandel 2019-01-22 18:40:02
मथुरा, 22 जनवरी (आरएनआई) छुहारे का हलवा आपको ठंड से बचाता है और हमारे शरीर को मजबूती प्रदान करता है। इसके साथ ही यह आपके शरीर में कभी खून की कमी नहीं होने देता। यह शरीर प्रतिरोधक क्षमता तथा पौरूष शक्ति को बढ़ाता है। सामग्री :1. छुहारा– 200 ग्राम -2. दूध– 1/2 लीटर
सर्दियो में कफ, खांसी व बुखार से कैसे करें बचाव?
Shyam Singh Chandel 2019-01-22 17:21:14
मथुरा, 22 जनवरी (आरएनआई) सर्दियो में कफ, खांसी व बुखार से कैसे करें बचाव, कीजिये घरेलु उपाय।कफ नाशक :-हल्‍दी अजवायन व सौंठ 20 - 20 ग्राम ले पीस कर मिक्‍स कर लें !
एक चुकंदर खाएं और करे शरीर में पौष्टिक तत्वों की पूर्ती
Shyam Singh Chandel 2019-01-22 17:00:41
मथुरा, 22 जनवरी (आरएनआई) एक चुकंदर खाएं और करे शरीर में पौष्टिक तत्वों की पूर्ती, क्योकि चुकंदर अपने आप में एक औशधी है जो कि शरीर में पौष्टिक तत्वों की पूर्ती करता है।
गर्म पानी पीने से दिल के दौरे का बचाव होता है
Shyam Singh Chandel 2019-01-22 16:47:59
मथुरा, 22 जनवरी (आरएनआई) चीनी और जापानी अपने भोजन के बाद गर्म चाय पीते हैं, ठंडा पानी नहीं। चलिए अब हम भी इनकी यही आदत निकाल लेते हैं। जो लोग भोजन के बाद ठंडा पानी पीना पसंद करते हैं, यह लेख उनके लिए है। खाने के साथ ठंडा ठंडा पेय या पानी पीना बहुत हानिकारक होता है क्योंकि ठंडा पानी ठोस खाद्य पदार्थों को आपके खाने के घी या तेल में बदल देता है जिसे आपने अभी खाया है। इससे पाचन बहुत धीमा हो जाता है। जब यह शरीर के अंदर कार्य करता है, तो यह टूट जाता है और जल्द ही यह ठोस भोजन आंतों द्वारा तेजी से अवशोषित कर लिया जाता है। यह आंतों में जमा हो जाता है। जल्द ही यह वसा में बदल जाता है और कैंसर का कारण बनता है। इसलिए भोजन के बाद गर्म पानी या गर्म पानी पीने का सबसे अच्छा तरीका है। सोने से ठीक पहले एक गिलास गर्म पानी पीना चाहिए। इससे आपको खून की कमी नहीं होगी और आप दिल के दौरे से बच जाएंगे।
थायराइड की समस्या से निजात पाने के उपाय
Shyam Singh Chandel 2019-01-06 10:59:01
मथुरा, 6 जनवरी (आरएनआई) थायराइड एक एसा रोग है जिसमें लक्षण शुरूआत में दिखाई नहीं देते हैं। यह थायरॉयड ग्रंथि का आम विकार है। थायराइड हार्मोंन शरीर के पाचन तन्त्र तथा शरीर के लगभग हर अंग प्रणाली के विनियमित को प्रभावित करता है। इस रोग मे शरीर के अंग तेज या धीमी गति से काम करते हैं। इसमें शरीर की ऑक्‍सीजन की खपत और हीट के उत्‍पादन को विनियमित करता है।
सेहतमन्द कैसे बने रह सकते हैं?
Shyam Singh Chandel 2019-01-06 09:58:10
मथुरा, 6 जनवरी (आरएनआई) सेहतमन्द कैसे बने रह सकते हैं?
जानिये मिजिल्स रूबेला टीकाकरण आखिर क्या है..? क्या है इसके लक्षण, क्या हैं इसके उपाय आइये बताते हैं आपको...
Rama Shanker Prasad 2018-12-25 08:55:33
आरा, 25 दिसंबर (आरएनआई)। रूबेला एक संक्रमण से होने वाली बीमारी है जो जीनस रुबिवायरस के वायरस द्वारा होता है। रुबेला संक्रामक है लेकिन प्राय: हल्का वायरल संक्रमण होता है। हालांकि रुबेला को कभी-कभी “जर्मन खसरा” भी कहते हैं, रुबेला वायरस का खसरा वायरस से कोई संबंधित नहीं है।
डेंगू के प्रकोप से बचाव के उपाय
Shyam Singh Chandel 2018-09-24 22:18:16
मथुरा, 24 सितम्बर (आरएनआई) डेंगू के प्रकोप से बचाव के उपाय1. डेंगू के लिए घरेलू नुस्खेडेंगू का प्राकोप आजकल बहुत तेजी से फैल रहा है। यह बीमारी एडीज मच्छर द्वारा काटने से होती है। डेंगू के बारे में सबसे खास बात यह है कि इसके मच्छर दिन के समय काटते हैं तथा यह मच्छर साफ पानी में पनपते हैं। डेंगू के दौरान रोगी के जोड़ों और सिर में तेज दर्द होता है और बड़ों के मुकाबले यह बच्चों में ज्यादा तेजी फैलती है। डेंगू बुखार में प्लेटलेट्स का स्तर बहुत तेजी से नीचे गिरने के कारण यदि इसका इलाज तुरंत न किया जाए तो यह जानलेवा भी हो सकता है। डेंगू से बचाव के लिए कुछ घरेलू उपाय भी हैं जिन्हें अपनाकर डेंगू से बचाव संभव है। हम आपको कुछ ऐसे ही घरेलू और प्राकृतिक नुस्खे बता रहे हैं ताकि आप खुद को डेंगू के प्रकोप से बचा सकें।

Top Stories

Home | Privacy Policy | Terms & Condition | Why RNI?
Positive SSL