HIGHLIGHTS


मिट्टी खुदाई में निकला शिवलिंग, पूजा अर्चना शुरू

Ram Prakash Rathore 2019-11-11 17:11:43    MEDITATION 4300
मिट्टी खुदाई में निकला शिवलिंग, पूजा अर्चना शुरू
शाहाबाद, 11 नवंबर 2019, (आरएनआई )। सोमवार को सुबह भराव के लिए मिट्टी की खुदाई कर रहे एक व्यक्ति के फावड़े में पत्थर फंस गया जब उसने खुदाई की तो उसमें एक सफेद आलीशान शिवलिंग बाहर निकला। शिवलिंग निकलने की खबर पूरे गांव में फैल गई। और वहां लोगों ने पूजा पाठ करना शुरू कर दिया है। शाहाबाद ब्लॉक के ग्राम घुरहा में संजीव नाम का एक व्यक्ति अपने जानवरों के पास ग्राम समाज की भूमि से मिट्टी निकालकर भराव कर रहा था। उसी समय लगभग एक फिट गहरे में उसका फावड़ा किसी पत्थर से जा टकराया। पत्थर समझकर उसने खुदाई की तो उसमें एक आलीशान सफेद शिवलिंग बाहर आया। शिवलिंग बाहर आते ही पूरे गांव में चर्चा हो गई। और शिवलिंग देखने के लिए भारी भीड़ एकत्रित हो गई । उसी स्थान पर गांव वासियों ने पूजा अर्चना शुरू कर दी। काफी संख्या में लोग उसे देखने आ रहे थे। खबर पाकर सर्कल टीम भी गांव पहुंची और शिवलिंग के पास लगी भीड़ देखकर खुदाई करने वाले व्यक्ति से मुलाकात की और शिवलिंग के बारे में बातचीत की । बताया जाता है कि पूरे गांव में भगवान शिव का कोई मंदिर नहीं है। ग्राम वासियों ने इसी स्थान पर शिवलिंग की स्थापना कर मंदिर बनाने का निर्णय लिया है। फिलहाल तहसील के प्रशासनिक अधिकारियों को भी इसकी सूचना दी गई है।




Related News

Meditation

सुलतानपुर:-जीव को मूल स्वारूप का बोध हो जाय यही भागवत का उद्देश्य है- आचार्य शान्तनु जी महराज
Shyam Chandra Srivastav 2019-12-11 10:15:45
सुलतानपुर, 11 दिसंबर 2019, (आरएनआई )। भगवान के द्वारा कही गई वाणी भागवत है ।लक्ष्मी जी के कहने पर कृष्ण दौप्पायन व्यास ने भागवत में श्रीमद् जोड़ दिया जिससे वह परम पवित्र ग्रन्थ श्रीमद्भागवत हो गया। परम सत्य के स्वरूप का दर्शन ही श्रीमद् भागवत है ,यानी कि परम सत्य स्वयं श्री भगवान है और परम धर्म का निरूपण ही श्रीमद्भागवत है । भागवत सुनने का मुख्य उद्देश्य है जीव को मूल स्वरूप का बोध हो जाए और इसी उद्देश्य के साथ श्रीमद् भागवत को सुनाया जाता है।
सुलतानपुर:-जीव को मूल स्वारूप का बोध हो जाय यही भागवत का उद्देश्य है- आचार्य शान्तनु जी महराज
Shyam Chandra Srivastav 2019-12-09 10:14:47
सुलतानपुर, 9 दिसंबर 2019, (आरएनआई )। भगवान के द्वारा कही गई वाणी भागवत है ।लक्ष्मी जी के कहने पर कृष्ण दौप्पायन व्यास ने भागवत में श्रीमद् जोड़ दिया जिससे वह परम पवित्र ग्रन्थ श्रीमद्भागवत हो गया। परम सत्य के स्वरूप का दर्शन ही श्रीमद् भागवत है ,यानी कि परम सत्य स्वयं श्री भगवान है और परम धर्म का निरूपण ही श्रीमद्भागवत है । भागवत सुनने का मुख्य उद्देश्य है जीव को मूल स्वरूप का बोध हो जाए और इसी उद्देश्य के साथ श्रीमद् भागवत को सुनाया जाता है।
उत्तम संस्कार ही मानव की सबसे बड़ी पूंजी है-पाराशर शास्त्री
Laxmi Kant Pathak 2019-11-23 19:17:39
फतेहपुर/अमेठी, 23 नवंबर 2019, (आरएनआई )। फतेहपुर गांव में पिछले चार दिन से श्रीमद् भागवत सप्ताह ज्ञान यज्ञ में व्यासपीठ पर विराजमान मुख्य वक्ता डॉ श्याम सुंदर पाराशर जी ने कहा संस्कार मानव जीवन की सबसे बड़ी पूंजी है संस्कार विहीन मनुष्य पशुओं के समान होता है ऐसे में हमें अपने बच्चों को भौतिक सुख-सुविधा अच्छी शिक्षा के साथ-साथ धर्म शास्त्रों एवं अच्छे संस्कारों की सीख देना भी आवश्यक है बुरे संस्कार वाला व्यक्ति समाज कुल परिवार की मर्यादा नष्ट करने के साथ-साथ संपूर्ण ऐश्वर्य एवं वैभव नष्ट कर देता है कुछ बुरे कर्मों के कारण रावण की सोने की लंका एवं संपूर्ण कुल खानदान नष्ट हो गया जबकि बनवासी श्रीराम ने उत्तम संस्कार एवं धर्म के लिए लड़ते हुए विजय श्री का वरण वरण किया उन्होंने कहा कि किताबी ज्ञान के साथ-साथ बच्चों को वेद उपनिषद रामायण महाभारत श्रीमद्भागवत की शिक्षा देना भी आवश्यक है इस मौके पर आयोजक डॉ अवनीश पाठक,कौशलेंद्र पाण्डेय,मुख्य श्रोता यमुना प्रसाद पाठक, त्रिवेणी प्रसाद पाठक,अनुपम पाठक और बहुत से भक्तगण उपस्थित रहे
হিন্দু বিশ্বাস অনুসারে, দেবী কাত্যায়নী দেবী দুর্গার ষষ্ঠ রূপের প্রতীক। ...
Suman Debnath 2019-11-18 13:11:50
হিন্দু বিশ্বাস অনুসারে, দেবী কাত্যায়নী দেবী দুর্গার ষষ্ঠ রূপের প্রতীক। বিশ্বাস করা হয় যে রাক্ষসকে বধ করার জন্য মহিষাসুর, মা পার্বতী কাত্যায়নী দেবীরূপে রূপ নিয়েছিলেন। দেবী পার্বতীর এই রূপটি সবচেয়ে মারাত্মক বলে মনে করা হয় এবং তিনি এই রূপে যোদ্ধা দেবী হিসাবেও স্বীকৃত। গ্রহ বৃহস্পতি মা কাটায়য়ানি দ্বারা পরিচালিত বলে বিশ্বাস করা হয়। নবরাত্রির ষষ্ঠীর দিন ভক্তরা কাত্যায়নী দেবীর উপাসনা করেন এবং তাঁর কাহিনী শোনেন ও পড়েন। হিন্দু পৌরাণিক কাহিনী এবং শিব মহা পুরাণ অনুসারে, দেবী পার্বতী তাঁর শক্তি ও শক্তি দিয়ে পৃথিবী রক্ষার জন্য মহিষাসুরকে ধ্বংস করতে দেবী দুর্গার অপরূপ দেবী কাত্যায়নী রূপে হাজির হয়েছিলেন। মহিষাসুর বিভিন্ন রূপে পরিবর্তনের দক্ষতার অধিকারী ছিলেন। একবার যখন তিনি মহিষের রূপ নিয়েছিলেন, তখন দেবী কাত্যায়নী তার সিংহ থেকে জন্ম নিয়েছিলেন এবং ত্রিশুলকে তার গলায় আঘাত করে রাক্ষসকে হত্যা করেছিলেন। অতএব, তিনি পৃথিবীর ত্রাণকর্তা হিসাবে পরিচিত। সোমবার রাজধানীর দুর্গা বাড়িতে শুরু হয় কাত্যায়নী পুজা। এই পুজা চলবে বুধবার পর্যন্ত। মহারাজ পরিক্ষিত কাত্যায়নীর আদেশে এই পুজা করেছিলেন। রাজ্যের শান্তির জন্য এই পুজা করেন মহারাজ পরিক্ষিত । দাপর জুগ থেকে এই পুজো চলে আসছে বলে জানান দুর্গা বাড়ির পুরোহিত।
सुलतानपुर:-भाजपा राज मे भी विकास से कोसो दूर है हजारो वर्ष पुराना कादीपुर क्षेत्र का अघोरपीठ बाबा सत्यनाथ मठ
Shyam Chandra Srivastav 2019-11-14 17:50:14
सुलतानपुर, 14 नवंबर 2019, (आरएनआई )। आध्यात्मिक, राजनैतिक, साहित्य के क्षेत्र में जनपद में ही नहीं वरन पूरे देश में अपनी अलग पहचान रखने वाला स्थान कादीपुर जो अपने गर्भ में विभिन्न सांस्कृतिक आध्यात्मिक धरोहरों को छिपाए रखा है! इसी क्रम में पुरातात्विक महत्त्व का शैव तंत्र साधना का महत्वपूर्ण स्थान है अघोर पीठ बाबा सत्यनाथ मठ !
नर्मदा स्थल पर नव दुर्गा पूजन समिति ने मनाई देव दीपावली
Ram Prakash Rathore 2019-11-13 17:44:07
शाहाबाद, 13 नवंबर 2019, (आरएनआई )। नगर के पौराणिक एवं धार्मिक नर्मदा तीर्थ स्थल पर बहुत ही धूमधाम व हर्षोल्लास के साथ श्री नव दुर्गा पूजन समिति के तत्वावधान में इस वर्ष चतुर्थ देव दीपावली पर्व का आयोजन किया गया। जिसमें नर्मदा तीर्थ स्थल के सभी घाटों व परिक्रमा मार्ग पर हजारों की संख्या में दीप प्रज्वलित किए गए नर्मदा तीर्थ के मेन घाट श्री कालिका घाट पर समिति के संरक्षक श्री संजय मिश्रा श्री नलिन गुप्ता डब्लू श्री सुरेश चंद्र मिश्रा द्वारा आरती व दीप प्रज्वलित किए गए श्री बजरंग घाट पर राजीव बाजपेई चैंपियन द्वारा व टेढ़ेश्वर नाथ घाट पर डॉक्टर अमित पाठक संजय ओमर द्वारा व पुल के ऊपर अंशु राठोर साहिल रावत श्री हरिश्चंद्र घाट पर सुभाष शर्मा सत्यम गुप्ता चिंतन रावत व नागा घाट पर गोविंदा शर्मा अभिषेक गुप्ता द्वारा आरती व दीपक प्रज्वलित किए गए। समिति के व्यवस्थापक दीपक गुप्ता राधे-राधे द्वारा कार्यक्रम में सहयोग करने के लिए सभी का आभार व्यक्त किया गया कार्यक्रम में बड़ी संख्या में बच्चों महिलाओं एवं नगर वासियों ने परिक्रमा मार्ग पर दीपक व मोमबत्ती द्वारा प्रकाशमान किया गया। दीपोत्सव के बाद का नजारा बड़ा ही रमणीक अलौकिक व सुंदर था। नर्मदा ताल के जल में दीपको का प्रतिविम्ब मन को हर्षित करने वाला था।कार्यक्रम में मुख्य रूप से बसंत गुप्ता योगेश गुप्ता नितांत रस्तोगी सिंदुल मिश्रा संजय गुप्ता अखिलेश बाथम व हजारों की संख्या में नगरवासी व भक्त गण उपस्थित रहे।
सीतापुर। कलश यात्रा में उमड़ी महिलाएं
Mahendra Kumar Agrawal 2019-11-13 15:19:48
बिसवां/सीतापुर, 13 नवंबर 2019, (आरएनआई )। गायत्री तीर्थ शांतिकुंज के तत्वावधान में गायत्री शक्तिपीठ बिसवां द्वारा 24 कुंडीय गायत्री महायज्ञ एवं पावन प्रज्ञा पुराण कथा का शुभारंभ कलश यात्रा के साथ प्रारंभ हुई। कार्यक्रम 15 नवम्बर तक चलेगा। कलश यात्रा गायत्री मन्दिर से प्रारंभ हुई जो नगर के विभिन्न मार्गों पर होती हुई वापस मन्दिर पर समाप्त हुई। कलश यात्रा में महिलाएं व पुरूष पीले वस्त्रों की पोशाक में सर पर कलश रखे गीत गाते चल रहे थे। 14 नवम्बर को कुंडीय यज्ञ व विविध संस्कार तथा संगीत व प्रवचन होगा तथा विराट दीप महायज्ञ के साथ कार्यक्रम का समापन होगा। कार्यक्रम को सफल बनाने में मुन्ना लाल गुप्ता, रामऔतार, सुनील बाजपेई, रामप्रताप वर्मा, साकेत वर्मा का विशेष योगदान रहा।
मुज़फ़्फ़रपुर : कार्तिक पूर्णिमा के पूण्य अवसर पर घाटों पर उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़ स्नान के साथ किया पूजन
Rupesh Kumar 2019-11-12 17:33:34
मुज़फ़्फ़रपुर, 12 नवंबर 2019, (आरएनआई )। कार्तिक पूर्णिमा के विशेष अवसर पर आज जिला की सभी घाट में अहले सुबह से पवित्र स्नान करने के लिए महिला बच्चे और पुरुष श्रद्धालुओं की उमड़ पड़ी भारी भीड़।इस मौके पर सभी लोगों ने दीपों का दान भी किया है।जिला के आश्रम घाट सीढ़ी घाट और संगम घाट पर विशेष रूप से किया गया था तैयारी।इसको लेकर पूरे घाट क्षेत्र में मेला का भी किया गया था आयोजन।वहीं जिला के रेवा घाट पर भी लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं ने पवित्र स्नान किया और दान भी किया है।बता दें कि कार्तिक पूर्णिमा पर स्नान दान का विशेष महत्व है.
गंगा स्नान के लिए हरिद्वार में उमड़ी श्रद्धालुओं की भारी भीड़
Root News of India 2019-11-12 12:49:49
नई दिल्ली, 12 नवंबर 2019, (आरएनआई )। आज पूरे देश में कार्तिक पूर्णिमा, देव-दीपावली और गुरु पर्व धूम-धाम से मनाया जा रहा है। कार्तिक पूर्णिमा के मौके पर मंगलवार को वाराणसी, हरिद्वार सहित कई हिस्सों में हजारों लोगोंं ने गंगा में आस्था की डुबकी लगाई है तो वहीं आज सुबह से ही मंदिरों में पूजा-अर्चना करने वालों का तांता लगा है। ऐसी मान्यता है कि कार्तिक पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान करने से पिछले सारे पाप धुल जाते हैं और स्वास्थ्य अच्छा होता है। इस खास मौके पर छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल भीआज सवेरे 5:15 बजे राजधानी रायपुर के महादेव घाट पहुंचे और उन्होंने खारून नदी में कार्तिक पूर्णिमा का स्नान किया और इसके बाद वो आरती में भी शामिल हुए।
वैकुण्ठ चतुर्दशी पर हुआ भोलेनाथ का महाश्रृंगार
Rupesh Kumar 2019-11-11 19:23:51
मुज़फ़्फ़रपुर, 11 नवंबर 2019, (आरएनआई )। साहूपोखर स्थित महादेव मंदिर मे वैकुण्ठ चतुर्दशी पर भगवान भोलेनाथ का महाश्रृंगार हुआ।इसके पुर्व दुध, दही, घी,मध, शक्कर,गंगाजल से मंत्रोच्चारण के साथ विधि विधान से अभिषेक किया गया इसके बाद अष्टगंध, बिल्वपत्र, दुभ, भांग एवं रंग बिरंगे फूल मालाओं एवं वस्त्र ओढाकर बाबा का महाश्रृंगार किया गया.
मिट्टी खुदाई में निकला शिवलिंग, पूजा अर्चना शुरू
Ram Prakash Rathore 2019-11-11 17:11:43
शाहाबाद, 11 नवंबर 2019, (आरएनआई )। सोमवार को सुबह भराव के लिए मिट्टी की खुदाई कर रहे एक व्यक्ति के फावड़े में पत्थर फंस गया जब उसने खुदाई की तो उसमें एक सफेद आलीशान शिवलिंग बाहर निकला। शिवलिंग निकलने की खबर पूरे गांव में फैल गई। और वहां लोगों ने पूजा पाठ करना शुरू कर दिया है। शाहाबाद ब्लॉक के ग्राम घुरहा में संजीव नाम का एक व्यक्ति अपने जानवरों के पास ग्राम समाज की भूमि से मिट्टी निकालकर भराव कर रहा था। उसी समय लगभग एक फिट गहरे में उसका फावड़ा किसी पत्थर से जा टकराया। पत्थर समझकर उसने खुदाई की तो उसमें एक आलीशान सफेद शिवलिंग बाहर आया। शिवलिंग बाहर आते ही पूरे गांव में चर्चा हो गई। और शिवलिंग देखने के लिए भारी भीड़ एकत्रित हो गई । उसी स्थान पर गांव वासियों ने पूजा अर्चना शुरू कर दी। काफी संख्या में लोग उसे देखने आ रहे थे। खबर पाकर सर्कल टीम भी गांव पहुंची और शिवलिंग के पास लगी भीड़ देखकर खुदाई करने वाले व्यक्ति से मुलाकात की और शिवलिंग के बारे में बातचीत की । बताया जाता है कि पूरे गांव में भगवान शिव का कोई मंदिर नहीं है। ग्राम वासियों ने इसी स्थान पर शिवलिंग की स्थापना कर मंदिर बनाने का निर्णय लिया है। फिलहाल तहसील के प्रशासनिक अधिकारियों को भी इसकी सूचना दी गई है।
गुरु नानक देव ने मानवता की भलाई के लिए संगत पंगत सिद्धांत दिया: संत श्रीपाल
Laxmi Kant Pathak 2019-11-10 18:00:08
हरदोई, 10 नवंबर 2019, (आरएनआई )। शिव सत्संग मंडल के आद्य परमाध्यक्ष संत श्रीपाल ने कहा कि गुरु नानकदेव ने मानवता की भलाई के लिए संगत पंगत का सिद्धांत दिया।
Mumbai Is All Set ToInstituteIts First NishPakshapati Temple At Borivali With Grand Celebration On Pujya Dada Bhagwan’s 112th Birth Anniversary
Root News of India 2019-11-08 19:11:21
Mumbai, 8 November 2019, (RNI): Pujya Dada Bhagwan’s blessings have helped millions of his devotees attain peace and tranquility in their lives. His 112th birthday anniversary is going to be celebrated in Mumbai in a grand manner. On this occasion, a 13 feet tall idol of Jain’s current Tirthankar, Shri Simandhar Swami, along with idols of Lord Shri Krishna and Lord Shiva, will be installed at the first NishPakshapati templebeing set up. The installation ritual will be performed by Dada BhagwanParivar’s torchbearer,Pujya Shri Deepakbhai. The ceremony will be held between 08-10 November at the temple located at Rishivan, Kaju Pada in Borivali East. This would be the tallest idol of Shri Simandhar Swami in the city. The suburb will also witness an extraordinary celebration of the occasion, thanks to Anand Nagri, that is set up at the Chiku Wadi grounds in Borivali westwhere numerous edutainment and spiritual activities will be held for children and elders alike. There will also be a unique stage play along with a series of other offerings.
राधा-कृष्ण मंदिर मे प्राण प्रतिष्ठा को लेकर निकली कलश यात्रा।
Umesh Kumar 2019-11-08 15:06:06
चेहराकलां ( वैशाली ), 8 नवंबर 2019, (आरएनआई )। प्रखंड क्षेत्र के करहटिया बुजुर्ग गांव में अवस्थित योगीस्थान के प्रांगण में राधाकृष्ण के प्राण प्रतिष्ठा व 24 घंटे अष्टयाम महायज्ञ को लेकर बड़ी धुमधाम से 551 कन्याओं की निकाली गई कलशयात्रा।जिसमें गाजेबाजे हाथी घोड़े शामिल थे।
अष्टयाम के लिए निकाली भव्य कलश यात्रा।
Umesh Kumar 2019-11-08 13:02:45
पातेपुर ( वैशाली ), 8 नवंबर 2019, (आरएनआई )। प्रखंड के निलोरुकुन्दपुर ब्रम्हस्थान परिसर में आयोजित 24 घंटे का अष्टजाम महायज्ञ हेतु भव्य कलश शोभा यात्रा निकाली गई.
ମହାପ୍ରଭୁ ଶ୍ରୀଲିଙ୍ଗରାଜଙ୍କ ଫଟୋ ଭାଇରାଲ୍‌
Laxmikanta Nath 2019-11-07 20:07:21
ଭୁବନେଶ୍ୱର : ମହାପ୍ରଭୁ ଶ୍ରୀଲିଙ୍ଗରାଜଙ୍କ ବିଭିନ୍ନ ବେଶର ଫଟୋ ସୋସିଆଲ ମିଡିଆରେ ଭାଇରାଲ ହୋଇଛି। ମହାପ୍ରଭୁଙ୍କ କାର୍ତ୍ତିକ ଓ ଦାମୋଦର ବେଶର ଫଟୋ ଭାଇରାଲ ହେଉଛି। ତେବେ ଅକ୍ଟୋବର ୧୪ ତାରିଖରେ ପ୍ରଦୀପ୍ତ ପାତ୍ର ନାମକ ଜଣେ ବ୍ୟକ୍ତିଙ୍କ ସୋସିଆଲ ମିଡିଆ ଆକାଉଣ୍ଟରୁ ଏହି ଫଟୋ ଭାଇରାଲ ହୋଇଥିବା ସୂଚନା ମିଳିଛି। କାର୍ତ୍ତିକ ମାସରେ ମହାପ୍ରଭୁଙ୍କ ଦାମୋଦର ବେଶ ଅନୁଷ୍ଠିତ ହୋଇଥାଏ। ମନ୍ଦିର ପ୍ରଶାସନ ଏବଂ ଏଏସ୍‌ଆଇ ପକ୍ଷରୁ କଡ଼ା ନଜର ରଖାଯାଇଥାଏ। ଏସବୁ ସତ୍ତ୍ୱେ କିଭଳି ଭାବେ ମୋବାଇଲ୍‌ରେ ଫଟୋ ଉଠାଯାଇ ଭାଇରାଲ ହେଉଛି ତାକୁ ନେଇ ପ୍ରଶ୍ନବାଚୀ ସୃଷ୍ଟି ହୋଇଛି। ପ୍ରକାଶଯୋଗ୍ୟ, କିଛି ଦିନ ତଳେ ପୁରୀ ଶ୍ରୀମନ୍ଦିର ଭିତର ବେଢ଼ାର ଭିଡିଓ ଟିକ୍‌ଟକ୍‌ରେ ଭାଇରାଲ ହୋଇଥିଲା। ଜଣେ ଯୁବତୀ ନିଜ ଟିକ୍‌ଟକ୍‌ରେ ଭୋଗମଣ୍ଡପ ସମ୍ମୁଖର ଦୃଶ୍ୟ ଓ ଭୋଗ ପାଇଁ ଅବଢ଼ା ବୁହାଯିବା ସମୟର ଦୃଶ୍ୟକୁ ଶେୟାର କରିଥିଲେ।
उगा हो सुरुजदेव भिन भिनसरवा, अरघ केर बेरवा..., उगते सूर्य को अर्घ्य के साथ  संपन्न हुआ छठ महापर्व
Root News of India 2019-11-03 08:23:22
संत कबीर नगर। मगहर  सहित पूरे जिले में रविवार की भोर से ही नदी तटों, तालाबों, पोखरा व घरों की छतों पर लाखों व्रतियों द्वारा उदित होते भगवान भास्कर सूर्य को अर्घ्य   जन आस्था और सूर्योपासना के महापर्व छठ का चार दिवसीय अनुष्ठान रविवार की भोर से प्रात:कालीन अर्घ्‍य देकर भगवान भास्‍कर सूर्य की आराधना का महापर्व सम्पन्न हो गया।
Portals of Kedarnath and Yamunotri Dham closed with vedic rituals
Root News of India 2019-10-29 13:37:05
Dehradun, 29 October 2019, (RNI): The portals of Kedarnath and Yamunotri Dham closed today on the auspicious occasion of Bhaidooj. The portal of Kedarnath shrine closed at 5.30 am amidst vedic chants and rituals. A large number of pilgrims were present to witness the heavenly moment. Pilgrims will now get to worship Lord Kedarnath at Omkareshwar temple in Ukhimath for the next six months. This year more than 9 lakh pilgrims visited the Kedarnath shrine.
मुज़फ़्फ़रपुर : बाह्रण टोली मे वैदिक एवं तंत्रोक्त विधि से हुई माँ काली की पूजा-अर्चना
Rupesh Kumar 2019-10-28 17:29:24
मुज़फ़्फ़रपुर, 28 अक्टूबर 2019, (आरएनआई )। बाह्रणटोली मे माॅ काली की पूजा दीपावली की मध्य रात्री मे वैदिक एवं तंत्रोक्त विधि से पुरे विधि-विधान के साथ हुआ. पूजा के आयोजक आचार्य डाॅ चंदन उपाध्याय ने बताया कि यहाँ माॅ काली की पूजा 19 वर्षो से हो रही है जिसका विशेष महत्व इसीलिये है कि यहाँ बाबा फतेहचंद की जीवित समाधि है जो कि अपने आप मे महाश्मशान है।भगवती महाकाली शवारूढा एवं श्मशानलासिनी है।यहाँ माॅ के प्राण प्रतिष्ठा होते ही एक विशेष शक्ति का संचार होता है।श्रद्धालुओं का मानना है कि यहाँ मांगी गई हर मुराद माॅ पुरा करती है.
Portals of Gangotri Dham close with vedic rituals
Root News of India 2019-10-28 13:40:21
Dehradun, 28 October 209, (RNI): In Uttarakhand, the portals of Gangotri Dham were closed for six-month winter break on the auspicious occasion of Govardhan Pooja today. The Portals of Yamunotri and Kedar Nath Shrine will be closed tomorrow.

Top Stories

Home | Privacy Policy | Terms & Condition | Why RNI?
Positive SSL