नीम के आयुर्वेदिक गुण और नुकसान

Shyam Singh Chandel 2019-01-22 21:29:46    HELTH 34416
नीम के आयुर्वेदिक गुण और नुकसान
मथुरा, 22 जनवरी (आरएनआई) नीम के आयुर्वेदिक गुण और नुकसान को इन क्रमो मे रखा जा सकता हैः-

1. नीम के आयुर्वेदिक गुण

2. नीम के फायदे व औषधीय प्रयोग

3. नीम के नुकसान

4. नीम की आयुर्वेदिक औषधियां



नीम के आयुर्वेदिक गुण :

1. नीम सुप्रसिद्ध सर्वविदित सर्वत्र पाया जाने वाला त्रिदोष (वात, पित्त, कफ) को दूर करने की अपार क्षमता से सुशोभित वृक्ष है ।

2. पुराणों में इसे अमृत तुल्य माना गया है।

3. नीम वृक्ष का पान्चांग (फल, फूल, पत्ते, जड़ और छाल) का रेशा-रेशा अर्थात् जड़ से शिखर तक वृक्ष औषधीय गुणों से भरपूर है । यही इसके विशेष महत्त्व की बात है, ऐसा बहुत कम वृक्षों के साथ महत्व जुड़ा हुआ है ।

4. इसकी कोपलें नेत्र रोग, गर्मी, कोढ़ और कफ नाशक होते हैं । इसके पत्ते कृमि, विष, अरूचि और अजीर्ण नाशक होते हैं ।

5. इसके सूखे हुए पत्ते मनुष्य और कपड़ों (दोनों) की रक्षा करते हैं तथा अनाज में रखने से उसे भी घुनने (कृमियों) से बचाते हैं।

6. इस वृक्ष के फल (निबौली) बबासीर, प्रमेह, कोढ़, कृमि और गुल्म को शान्त करते हैं। 7. इसके पके फल (निबौली) रक्त, पित्त, कफ, नेत्र रोग, दमा नाशक है ।

8. इस वृक्ष का फूल (निबौली का फूल) कफ और कृमि नाशक है ।

9. इस वृक्ष का डन्ठल खाँसी, बबासीर, प्रमेह और कृमिजन्य विकार नाशक गुणों से भरपूर है ।

10. निबौली की गिरी कोढ़ में विशेष रूप से आरोग्यता प्रदान करने वाली है ।

11. नीम (निबौली) का तैल कृमि, कोढ़ और त्वचा रोग नाशक और दांत, मस्तक, स्नायु और छाती के दर्द को मिटाने के गुणों से भरपूर है।

12. नीम मूत्रल है यौनांगों को विकार मुक्त करके पुष्ट और सबल बनाता है। यह चेतना सर्जक है और दिमागी ताकत का असीम भंडार है ।

13. यह स्त्रियों के मासिक धर्म को नियमित भी करता है ।



नीम के फायदे औषधीय प्रयोग



1- अजीर्ण- नीम की निबौली खाने से अजीर्ण नष्ट हो जाता है । इसके सेवन से मल निष्कासित होकर रक्त स्वच्छ हो जाता है। रक्त संचार तीव्रता से होने के कारण जठराग्नि तीव्र हो जाती है । परिणामस्वरूप क्षुधा बढ़ जाती है ।



2- सुन्नपन- शरीर अथवा शरीर का कोई अंग विशेष यदि सुन्न हो गया हो तो नियमित 3-4 सप्ताह के नीम तैल की मालिश से सुन्न नसों में पूर्ण रूपेण चेतना आकर सुन्नपन नष्ट हो जाता है। नीम के बीजों का तैल निकलवाकर मालिश करें ।



3- अफीम खाने की लत- नीम पत्तियों का रस 1-1 चम्मच प्रतिदिन सुबह-शाम पीने से अफीम खाने की लत में कमी आकर धीरे-धीरे छूट जाती है । यदि अफीम खाने की लत अधिक सताये तो भांग का अल्प मात्रा में सेवन कर लिया करें । अफीम के मुकाबले भांग कम हानिकारक है तथा इसका सेवन कभी भी छोड़ा जा सकता है ।



4- अरुचि- अरुचि खाने-पीने की हो अथवा काम धन्धे की, नीम के सूखे पत्तों का चूर्ण बनाकर 1-1 चुटकी प्रत्येक 2-2 घंटे पर दिन में 3-4 बार सेवन करने से नष्ट हो जाती है । इस हेतु नीम की कोपलें भूनकर भी खाई जा सकती है ।



5- हर्निया- अन्डवृद्धि (हर्निया) में नीम, हुरहुर की पत्तियाँ और अमरबेल सभी सममात्रा में लेकर गोमूत्र में घोट-पीसकर अन्डकोषों पर लेप करते रहना अत्यन्त उपयोगी है।



6- आँखे दुखने पर-नीम की पत्तियों का रस 1-1 बूंद आँखों में डालें । नोट –बच्चों की दुखती आंखों में न डालकर कानों में डालें तथा यदि 1 आँख दुख रही हो तो विपरीत कान (बांयी आँख पर दुखने पर दांये कान में डालें ।



7- आँखों की जलन- नीम की पत्तियों का रस और पठानी लोध (10-10 ग्राम पीसकर आँखों की पलकों पर लेप करने से आँखों की जलन और लालिमा नष्ट हो जाती है



8- आँखों में सूजन- होने पर 10 ग्राम नीम की पत्तियाँ उबालकर 5 ग्राम फिटकरी में घोलकर दिन में तीन बार करना लाभप्रद है।



9- आग से जल जाने पर- नीम तैल लगाना उपयोगी है। नीम की 50 ग्राम कोंपले तोड़कर 250 ग्राम खौलते तैल में इतना पकायें कि नीम की कोपलें जल जायें (किन्तु जलकर राख न हों) तदुपरान्त 1-2 बार छानकर सुरक्षित रखलें और लगायें ।



11- नीम का मरहम- 250 ग्राम नीम के तैल में 125 ग्राम वैक्स (मोम), नीम की हरी पत्तियों का रस 1 किलो, नीम की जड़ की छाल का चूरा 50 ग्राम और नीम की पत्तियों की राख 25 ग्राम डालें । तैल और नीम का रस हल्की आग पर इतना पकायें कि तैल आधा या इससे भी कम रह जाए। फिर इसी में मोम डाल दें । जब तैल और मोम एकजान हो जाए तो छाल का चूरा और पत्तियों की राख भी मिला दें । यह प्रत्येक प्रकार का घाव भरने हेतु रामबाण मरहम तैयार हो गया।



12- पड़वाल- नीम की हरी पत्तियां, भीमसैनी कपूर, जस्ता भस्म, लाल चन्दन का बुरादा 10-10 ग्राम और शुद्ध रांगा 50 ग्राम को किसी लोहे के पात्र (कड़ाही) में खूब घोटकर सुरमा बनाकर आंखों में लगाने से पड़वाल (आंखों के बालों का आंखों के अन्दर की ओर जाना) जड़मूल से नष्ट हो जाता है।



13- उपदंश- आतशक(उपदंश) में नीम की पत्तियों का रस 10 ग्राम अथवा नीम का तैल 5 ग्राम नित्य पियें और यौनांगों पर नीम तैल की मालिश करें । अति उपयोगी योग है।



14- आधासीसी- नीम की पत्तियाँ, काली मिर्च और चावल 25-25 ग्राम घोट पीसकर नसवार बनालें । सूरज निकलने से पूर्व ही 1-1 चुटकी यह नसवार लेकर नथुनों से ऊपर खींचें । मात्र 1 सप्ताह के नित्य प्रयोग से पुराने से पुराना आधासीसी का रोग जड़ से भाग जाएगा ।



15- आँव आने पर – नीम पत्तियों का आधा कप काढा अथवा पत्ती का 2 या ढाई ग्राम चूर्ण या पत्ती का दस ग्राम रस या छाल का चूर्ण डेढ़ से दो ग्राम तक अथवा फल, फूल छाल, डन्ठल और पत्ती अर्थात् पंचांग का चूर्ण हो तो मात्र दो ग्राम सेवन करने से लाभ हो जाता है ।



16- वमन- 20 ग्राम नीम की पत्तियाँ पीसकर आधा कप पानी में घोलकर 5 दाने काली मिर्च के भी मिलालें । इसे पीने से किसी भी कारण से उल्टियां (वमन या कै) आ रही हो, शर्तिया शान्त हो जाती हैं ।

17- एक्जिमा- नीम की छाल, मजीठ, पीपल की छाल, नीम वृक्ष पर चढ़ी गिलोय प्रत्येक 10-10 ग्राम लेकर काढ़ा बनाकर आधा-आधा कप सुबह-शाम पीने से एक्जिमा नष्ट हो जाता है।



18- दो किलो नीम पत्ती का रस, 500 मि.ली. सरसों का तैल, आक का दूध, लाल कनेर की जड़ और काली मिर्च 5-5 ग्राम लेकर हल्की आग पर पकाकर तैल मात्र शेष रहने पर छानकर सुरक्षित रखलें । इस तैल को लगाने से एक्जिमा समूल नष्ट हो जाता है तथा त्वचा पर कोई दाग शेष नहीं रहता है।



19- कब्ज- प्रात: (सूर्योदय से पूर्व) कुल्ला करके नीम की 10 ग्राम पत्तियाँ घोटकर पानी में मिलाकर पीने से कब्ज मिटकर पेट स्वच्छ हो जाता है ।



20- कण्ठमाला – महानिम्ब (बकायन) के पत्तों और छाल का काढ़ा पीने से और छाल की पुल्टिस बनाकर गले पर बांधने से कण्ठमाला रोग जड़ मूल से मिट जाता है



21- कनफोड़े- कच्ची निबौली को चबाने से कर्णमूल (कनफोड़े) ठीक हो जाते हैं अथवा नीम के बीजों को नीम के ही तैल में पकाकर इसमें फुलाया हुआ नीला थोथा पीसकर मरहम बनाकर लगायें ।

नोट-नीला थोथा जहर है अतः प्रयोग के बाद हाथ अवश्य साबुन से खूब भली-भांति घोकर स्वच्छ करलें ।



22- कनखजूरे के विष में- नीम की पत्तियाँ घोटकर सैंधा नमक मिलाकर लेप करने से (जहाँ कनखजूरे ने काटा हो वहाँ लेप करें) विष नष्ट हो जाता है



23- कानों के कीड़े – नीम पत्तियों का 25 ग्राम रस नमक मिलाकर गुनगुना करके कानों में टपकाने से कानों से समस्त कीड़े निकल जाते हैं । आवश्यकता पड़ने पर (कान में कीड़े होने पर) यह क्रिया दूसरे दिन भी की जा सकती है। ( और पढ़ें – कान में से कीड़े को निकालने के 22 घरेलु उपाय)



24- कानों का बहना- 50 ग्राम सरसों के तेल में 25-30 ग्राम नीम के पत्ते पकावें । (इसी में 5 ग्राम पिसी हल्दी डाल लें । तदुपरान्त इस तैल को छानकर 1 छोटा चम्मच शहद मिलाकर शीशी में सुरक्षित रखलें । इस तैल को 3-4 दिनों कान में टपकाने से कानों की बहना और दुर्गन्ध निकलना शर्तिया दूर हो जाता है । अथवा नीम के तैल में शहद मिलाकर रूई की बत्ती से कान में फेरने मात्र से ही पीव आना और दुर्गन्ध निकलना, दर्द होना मिट जाता है



25- कान सुन्न पड़ जाना – नीम पत्ती 1 का रस चम्मच पीने से तथा 2-2 बूंद कानों में डालने से कान सुन्न पड़ जाने का रोग दूर हो जाता है ।



26- सफेद कोढ़- नीम की फूल-पत्ती और निबौली पीसकर 40 दिन निरन्तर शर्बत बनाकर पीने से सफेद कोढ़ से मुक्ति मिल जाती है



27- गलित कोढ़- नीम का गोंद नीम के ही रस में ही पीस कर पीने से गलित कोढ़ नष्ट हो जाता है । कोढ़ (लेप्रोसी) से ग्रसित रोगी को नीम वृक्ष के नीचे ही रहने, खाने, पीने और नीम की पत्तियां बिछावन की भांति बिछाकर सोना अत्यन्त ही लाभप्रद है घावों पर नीम का तैल लगाना अथवा शरीर पर मालिश करना, नीम की पत्तियों का रस पीना अथवा नीम से झरने वाला मद (50 ग्राम) तक पीना हितकर है। नीम की पत्ती का रस पानी में मिलाकर स्नान करना तथा बिस्तर से हटायी गयी नीम पत्तियों को जलाकर (धूनी लगाने से) वातावरण स्वच्छ रहता है । जली हुई पत्तियों की राख नीम के तैल में मिलाकर घावों पर लगाना भी लाभकारी है ।



28- मच्छर भगाना – नीम की सूखी पत्तियों के ढेर में गन्धक चूर्ण डालकर आग लगाने से खटमल और मच्छर भाग जाते हैं।



29- गले में जलन- पेट की खराबी के कारण होने वाले गले की दाह में नीम के रस में निबौली घोटकर शर्बत की भांति पीना लाभप्रद है।



30- बलगमी खाँसी में – नीम के पत्तों की भस्म शहद में मिलाकर चाटना अत्यन्तु लाभकारी है । नीम भस्म को सौंठ, अजवायन, काली मिर्च, पुदीना एवं अदरक रस में घोटकर चाटने से तुरन्त लाभ होता है । इस प्रयोग से श्वास नली के समस्त अवरोध और दूषण शान्त हो जाते है । ( और पढ़ें –कफ दूर करने के सबसे कामयाब 35 घरेलु उपचार)



31- खून की खराबी- 30 ग्राम नीम की कोपलों का रस तीन दिन पीने से खून की खराबी दूर हो जाती है। ( और पढ़ें – खून की खराबी दूर करने के 12 घरेलु आयुर्वेदिक उपाय)



32- खुजली में – नीम और मेंहदी के पत्तों को एक साथ रगड़कर रस निकाल कर 25 ग्राम की मात्रा में पीना तथा शेष बचे रस को नारियल के तैल में भूनकर छानकर शरीर पर मलना लाभकारी है। अथवा नीम का पंचांग (बीज, फूल, फल और पत्ते तथा जड़) समान मात्रा में पीसकर 4 चम्मच सरसों के तैल में उक्त चूरा हल्की आग पर तपाकर (नीम ज़लने की गन्ध फैलते ही और धुंआ उठते हुए ही) उतारकर, छानकर साफ-स्वच्छ शीशी में सुरक्षित रखलें। इस तेल की मालिश से मात्र खुजली ही नहीं, वरन् त्वचा सम्बन्धी समस्त विकार नष्ट हो जाते हैं ।



33- खूनी दस्त- पतझड़ के मौसम में नीम छाल को पीसकर छानकर दो ग्राम की मात्रा में 3-3 घंटे पर ताजे पानी से सेवन करने से खूनी दस्त रुक जाते हैं।



34- गंजापन- नीम तैल की निरन्तर काफी दिनों तक मालिश करते रहने से गंजापन नष्ट हो जाता है।



35- गठिया – 25 ग्राम सरसों के तैल को पकाकर (खूब खौलने तक पकायें) उसमें 10 ग्राम नीम की कोपलें डालकर काली पड़ने दें (जलने से पहले ही उतार लें) फिर इसवने छानकर तैल को पुनः गुनगुना करके गठिया से आक्रान्त अंगों पर मालिश करें तथा इसी तैल से शाक-भाजी बनाकर खायें । गठिया के लिए अक्सीर योग है। अथवा महानिम्ब (बकायन) के बीज को पीसकर दो ग्राम की मात्रा में गुनगुने पानी के साथ सेवन करें । सुन्न पड़ गये अंगों को इस योग के सेवन करने से चैतन्यता मिलती है।



36- शरीर में गर्मी- नीम पत्तियों के रस में मिश्री मिलाकर सुबह-शाम पीने से शरीर (देह) की गर्मी (शरीर में गर्मी का जोर) शान्त हो जाता है ।



37- गर्मी से बुखार होने पर- नीम की छाल, गिलोय, लाल चन्दन, धनिया और कुटकी सम मात्रा में लेकर जौकुट कर काढ़ा बनाकर 20 ग्राम की मात्रा में प्रतिदिन (तीन दिन में तीनखुराके) ले इससे अधिक सेवन कदापि न करें। यह ‘गड्न्यादि क्वाथ’ कहलाता है । मात्र इतने सेवन से ही बुखार भाग जाता है। और प्यास भी शान्त हो जाती है । यह उपचार रक्त को ठण्डा करता है ।



38- गले की जलन- नीम की पत्तियों का रस निकालकर हल्का गर्म करके (इसमें 5-7 बँट शहद भी मिला सकते हैं) गरारें (कुल्ला) करने से गले की जलन शान्त हो जाती है तथा कफ को हटाने में तो यह योग लाभप्रद है ।



39- गिल्टियों और सूजन में-नीम की पत्तियों को दरड़ लें (बारीक न पीसे) और नमक डालकर कड़वे तैल में पकायें, इसमें एक चुटकी पिसी हल्दी मिलाकर पुल्टिस तैयार कर किसी कपड़े में पोटली बनाकर गिल्टियों और सूजन पर हल्कीहल्की टकोर (सेंक) करें । दो दिन में ही आराम मिलने लगेगा ।।

नोट–टकोर करने पर पहले तो सूजन बढती हुई लगेगी, ऐसा खून संचार की क्रिया के कारण होता है । मगर बाद में शर्तिया लाभ होगा। अत: घबरायें नहीं और प्रयोग जारी रखें।



40- जोड़ों में दर्द –महानीम (बकायन) के पत्तों का रस पानी में मिलाकर पीने और जड़ की छाल को पीसकर लेप करने से गृधसी रोग (कमर से निचले जोड़ों में दर्द और जकड़न) नष्ट हो जाता है ।



41- घमौरियाँ- नीमरस में जरा सा नमक (सम्भव हो तो पांचों पिसे हुए नमक) मिलाकर दिन में 4 बार पीते रहने से घमौरियाँ नष्ट हो जाती हैं तथा गर्मी, खुश्की नहीं होती है और पित्ती भी नहीं निकलती है।



42- पित्ती – नीम के तैल में कपूर की टिकिया घोलकर ठण्डी हवा और छांव में बैठकर (धूप के असर से होने वाली पित्ती निकलने पर) मालिश करना तथा आधा घंटे के पश्चात् स्नान करना अत्यधिक लाभप्रद है ।



43- घाव- नीम की पत्तियों का रस और सरसों का तैल 10-10 ग्राम लेकर आग पर इतना पकायें कि रस जल जाए, तेल मात्र शेष रहे । इस तैल को घाव पर लगाना इतना अधिक गुणकारी है कि ऐलोपैथी की कीमती से कीमती घाव भरने का आयन्टमैन्ट (मलहम) इसका मुकाबला नहीं कर सकता है।



44- सोरायसिस- 40 दिनों तक निरन्तर नीम क्वाथ पीने से और त्वचा पर नीम का तेल लगाते रहने से चम्बल रोग (सोरायसिस) जड़ से नष्ट हो जाता है ।



45- त्वचा रोग – बहार के मौसम में प्रतिदिन नीम की 5 कोपलें चबाते रहने से अथवा 1 हफ्ता तक बेसन की रोटी में नीम की कोपले कुतरकर मिला दें तथा घी में खूब तर करके खाने से 1 साल तक त्वचा रोगों से बचाव हो जाता है ।



46- चेचक रोग- नीम की 7 लाल पत्तियाँ और 7 काली मिर्च के दाने प्रतिदिन चबाने से अथवा नीम और बहेड़े के बीज तथा हल्दी 5-5 ग्राम पीसकर ताजा पानी में घोलकर 1 सप्ताह पीने से 1 साल तक चेचक रोग से बचाव हो जाता है ।



47- बुखार- हरड़, बहेड़ा, आँवला का छिलका, सौंठ, पीपल, अजवायन, सैंधा और काला नमक प्रत्येक 10-10 ग्राम, काली मिर्च 1 ग्राम नीम के पत्ते आधा किलो और जौ क्षार 20 ग्राम को कूट पीस छानकर सुरक्षित रखलें । 3 से 5 ग्राम की मात्रा में फेंकी मारकर गुनगुने पानी के साथ पीने से चौथैया बुखार तो भाग ही जाता है इसका सेवन प्रत्येक प्रकार की ज्वरों में भी उपयोगी है ।



48- जलोदर रोग- सुबह-सुबह नीम की छाल का रस निकालकर 25 ग्राम की मात्रा में पीने के दो घंटे बाद घी की चूरी (परांठे की चूरी बनाकर घी में सानकर) 1 सप्ताह तक निरन्तर खाने (पानी न पियें अथवा कम से कम पियें) से जलोदर रोग नष्ट हो जाता है ।



49- कील मुँहासे- जवानी के कील मुँहासे मुरझाकर दाग छोड़ गए हों तो नीम के बीज सिरके में पीसकर 5-7 दिन दागों पर लेप करने से लाभ हो जाता है ।



50- जहरवा- नीम का मद (गोंद) दो ग्राम प्रतिदिन खाने से जहरवाद नष्ट हो जाता है।



51- जुएं- नीम का तैल सिर में मालिश करने से जुएं लीखें नष्ट हो जाती है ।



नीम के नुकसान :



1. सामान्य खुराक (मात्रा) में नीम के उपयोग से दुष्प्रभाव नहीं होते हैं।

2. नवजात शिशुओं को नीम का सेवन नहीं कराना चाहिये |

3. गर्भावस्था में महिलायें नीम का सेवन वैद्यकीय सलाहानुसार करें |






Related News

Helth

दातांवर डाग का पडतात ?
Jeevan Kautik Suralkar 2019-07-06 05:20:45
दातांवर डाग का पडतात ?
Common Food Allergies...
Jeevan Kautik Suralkar 2019-06-05 19:56:22
Mumbai, June 5 (RNI): Any food may cause an allergic reaction, but 90% of food allergies in children are caused by just 6 common foods or food groups—milk, eggs, peanuts, tree nuts, soy, and wheat. In adults, a similar percentage of serious allergies are caused by just 4 foods—peanuts, tree nuts, fish, and shellfish. Allergies to fruits and vegetables are much less common and usually less severe.Allergy to cow’s milk is among the most common hypersensitivity in young children, probably because it is the first foreign protein that many infants ingest in such a large quantity, especially if they are bottle-fed. If there is a cow’s-milk allergy, occasionally even a breastfed infant may have colic or eczema until milk and dairy foods are eliminated from the mother’s diet. Between 2 and 3 out of every 100 children younger than 3 years have allergy symptoms linked to cow’s milk.
पैरों के तलवों पर सरसों के तेल से मालिश के फायदे
Root News of India 2019-06-04 14:05:10
नई दिल्ली, 4 जून (आरएनआई) | सरसों के तेल का इस्तेमाल लगभग सभी घरों में किया जाता है। कोई खाना बनाने लिए तो कोई शरीर की मालिश करने के लिए इसे रोजाना इस्तेमाल करता हैं। सरसों का तेल सेहत के लिहाज से काफी फायदेमंद है। इस तेल में कई विटामिन, मिनरल्स और अन्य पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जो शरीर को फायदा पहुंचाते हैं।
Woman's Facial Injection for 'Liquid Nose Job' Left Her with Rare Eye Problem
Jeevan Kautik Suralkar 2019-06-03 23:11:30
Nagpur, June 3 (RNI): A woman's simple cosmetic procedure turned serious when an injection of facial filler into her nose led to blockages in her eye's blood vessels — a rare complication, according to a new report of the case.
उन्हाळ्यात निरोगी त्वचा कशी ठेवावी ?
Jeevan Kautik Suralkar 2019-05-26 14:18:00
उन्हात घरातून बाहेर पडल्यावर धूळ, माती, ऊन आणि प्रदूषण यांच्याशी सामना करावाच लागतो. या सर्वांमध्ये तुमची त्वचा खराब होण्याची शक्यता अधिक असते. चेहरा निस्तेज होणे, काळवंडणे, सुरकुत्या वाढणे अशा समस्या उद्भवतात. यासाठी स्पेशल स्किन केयर रूटीन फॉलो करण्याची गरज आहे. सोबतच केमिकल उत्पादनांपेक्षा काही घरगुती उपाय फायदेशीर ठरतात.
भेसळयुक्त मध कसे ओळखावे...
Jeevan Kautik Suralkar 2019-05-12 22:48:45
रोजच्या जीवनात आपण मध वापरत असतो पण आपल्याला हेच कळत नसत की आपण जे मध खातोय ते असली आहे की भेसळयुक्त. आयोडिनचा वापर करूनदेखील मधाच्या शुद्धतेची परीक्षा करता येते. थोडासा मध घेऊन पाण्यात मिसळा आणि त्यात आयोडीन टाका. आयोडीन मिसळल्यानंतर या मिश्रणाला निळा रंग प्राप्त झाल्यास मधात स्टार्च अथवा तत्सम पदार्थाची भेसळ करण्यात आल्याचे समजावे.
घंटों तक मोबाइल और कम्प्यूटर का इस्तेमाल से हो सकती है खतरनाक बीमारी
Root News of India 2019-05-06 12:40:47
नई दिल्ली, 6 मई (आरएनआई) | आज लोग ज्यादा समय तक कम्प्यूटर और मोबाइल का प्रयोग कर रहे हैं। लोग घंटों तक किसी न किसी तरह से इसका इस्तेमाल कर रहे हैं। पर वो इससे होने वाली बीमारियों से अंजान हैं। कम्प्यूटर और मोबाइल का ज्यादा इस्तेमाल करने से शरीर में कई प्रकार की बीमारियां पैदा होने का खतरा बढ़ जाता है। इन बीमारियों में टेक्स्ट नेक नाम की बीमारी गर्दन को झुकाकर लगातार इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स का यूज करने से होती है।
गुड़ का सेवन करना हमारे शरीर के लिए क्या क्या फायदे देता है
Shyam Singh Chandel 2019-02-19 21:18:15
मथुरा, 19 फरवरी (आरएनआई) अगर आप मीठा खाने के शौकीन है और चाह कर भी मीठा खाना नहीं छोड़ सकते तो आपके लिए सबसे अच्छा रहता है गुड़ का सेवन करना। गुड़ का सेवन करना हमारे शरीर के लिए बहुत अच्छा तो रहता ही है इसके साथ साथ यह आपके मीठा खाने की चाह को भी पूरा कर देता है। इसका सेवन करने से आपके शरीर को स्वास्थ लाभ भी होते है। लेकिन इसका अधिक मात्रा में सेवन करने से आपका पेट भी खराब हो सकता है और आपके शरीर पर गर्मी के कारण दाने भी पैदा हो सकते है। क्योंकि गुड़ की तासिर गर्म होती है। इसी कारण इसका सेवन भी एक सीमित मात्रा में ही करना चाहिए तभी आपको इसका फायदा होता है।
आंवला के गुण और उससे होने वाले आयुर्वेदिक इलाज
Shyam Singh Chandel 2019-02-19 20:34:49
मथुरा, 19 फरवरी (आरएनआई) आंवले का पेड़ भारत के प्राय: सभी प्रांतों में पैदा होता है। तुलसी की तरह आंवले का पेड़ भी धार्मिक दृष्टिकोण से पवित्र माना जाता है। स्त्रियां इसकी पूजा भी करती हैं। आंवले के पेड़ की ऊचांई लगभग 6 से 8 तक मीटर तक होती है। आंवले के पत्ते इमली के पत्तों की तरह लगभग आधा इंच लंबे होते हैं। इसके पुष्प हरे-पीले रंग के बहुत छोटे गुच्छों में लगते हैं तथा फल गोलाकार लगभग 2.5 से 5 सेमी व्यास के हरे, पीले रंग के होते हैं। पके फलों का रंग लालिमायुक्त होता है। खरबूजे की भांति फल पर 6 रेखाएं 6 खंडों का प्रतीक होती हैं। फल की गुठली में 6 कोष होते हैं, छोटे आंवलों में गूदा कम, रेशेदार और गुठली बड़ी होती है, औषधीय प्रयोग के लिए छोटे आंवले ही अधिक उपयुक्त होते हैं।आंवला युवकों को यौवन और बड़ों को युवा जैसी शक्ति प्रदान करता है। एक टॉनिक के रूप में आंवला शरीर और स्वास्थ्य के लिए अमृत के समान है। दिमागी परिश्रम करने वाले व्यक्तियों को वर्ष भर नियमित रूप से किसी भी विधि से आंवले का सेवन करने से दिमाग में तरावट और शक्ति मिलती है। कसैला आंवला खाने के बाद पानी पीने पर मीठा लगता है।
तुलसी के लाजवाब फायदे व रोगों के अचूक घरेलू नुस्खे
Shyam Singh Chandel 2019-02-19 20:28:43
मथुरा, 19 फरवरी (आरएनआई) तुलसी सभी का परिचित एक पवित्र पौधा है । इसका लेटिन नाम ‘ओसिमन सैन्कटम’ है। तुलसी की प्रकृति गर्म है। इसलिए गर्मियों में इसका कम मात्रा में सेवन करें । बड़ों के लिए 25 से 100 पत्ते और बालकों के लिए 5 से 25 पत्ते एक बार पीस कर शहद या गुड़ में मिलाकर नित्य 2-3 बार माह तक लें ।तुलसी के औषधीय गुण :
क्या हम वाकई अनजाने में अपने अनमोल जीवन को नष्ट कर रहे हैं?
Shyam Singh Chandel 2019-01-23 16:15:07
मथुरा, 23 जनवरी (आरएनआई) यदि आप निरोगी बनना चाहते हैं तो आपको आपकी दिनचर्या को बदलना पड़ेगा। क्योंकि आप जो दिनचर्या में जी रहे हैं उसने ही आपको रोगी बनाया है। हम जाने अनजाने में ही रोगों को अपने शरीर में घर देते हैं।
नीम के आयुर्वेदिक गुण और नुकसान
Shyam Singh Chandel 2019-01-22 21:29:46
मथुरा, 22 जनवरी (आरएनआई) नीम के आयुर्वेदिक गुण और नुकसान को इन क्रमो मे रखा जा सकता हैः-4. नीम की आयुर्वेदिक औषधियां
हजारों वर्षों से दादी-नानी के प्रमाणित नुस्खों व परंपराओं में बसी चिकित्सा को समझकर हम आयुर्वेदिक उपचार का सहारा लें।
Shyam Singh Chandel 2019-01-22 19:04:03
मथुरा, 22 जनवरी (आरएनआई) विश्व स्वास्थ्य संगठन की 1997 की एक रिर्पोट के अनुसार बाजार में बिक रही चैरासी हजार दवाओं में बहत्तर हजार दवाईओं पर तुरंत प्रतिबंध लगना चाहिए। क्योंकि ये दवाऐं हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं। लेकिन प्रतिबंध लगना तो दूर, आज इनकी संख्या दुगनी से भी अधिक हो गई है। जिस वैज्ञानिक चिकित्सा पद्धति का प्रत्येक क्रांतिकारी आविष्कार 10-15 वर्षों में ही नऐ आविष्कार के साथ अधूरा, अवैज्ञानिक व हानिकारक घोषित कर दिया जाता है। उसके पांच सितारा अस्पतालों, भव्य ऑपरेशन थियेटरों, गर्मी में भी कोट पहनने वाले बड़े-बड़े डिग्रीधारी डॉक्टरों से प्रभावित होने की बजाय यह अधिक श्रेष्ठ होगा कि हजारों वर्षों से दादी-नानी के प्रमाणित नुस्खों व परंपराओं में बसी चिकित्सा को समझकर हम आयुर्वेदिक उपचार का सहारा लें।
छुहारे का हलवा हमारे शरीर के लिये काफी फायदेमंद होता है
Shyam Singh Chandel 2019-01-22 18:40:02
मथुरा, 22 जनवरी (आरएनआई) छुहारे का हलवा आपको ठंड से बचाता है और हमारे शरीर को मजबूती प्रदान करता है। इसके साथ ही यह आपके शरीर में कभी खून की कमी नहीं होने देता। यह शरीर प्रतिरोधक क्षमता तथा पौरूष शक्ति को बढ़ाता है। सामग्री :1. छुहारा– 200 ग्राम -2. दूध– 1/2 लीटर
सर्दियो में कफ, खांसी व बुखार से कैसे करें बचाव?
Shyam Singh Chandel 2019-01-22 17:21:14
मथुरा, 22 जनवरी (आरएनआई) सर्दियो में कफ, खांसी व बुखार से कैसे करें बचाव, कीजिये घरेलु उपाय।कफ नाशक :-हल्‍दी अजवायन व सौंठ 20 - 20 ग्राम ले पीस कर मिक्‍स कर लें !
एक चुकंदर खाएं और करे शरीर में पौष्टिक तत्वों की पूर्ती
Shyam Singh Chandel 2019-01-22 17:00:41
मथुरा, 22 जनवरी (आरएनआई) एक चुकंदर खाएं और करे शरीर में पौष्टिक तत्वों की पूर्ती, क्योकि चुकंदर अपने आप में एक औशधी है जो कि शरीर में पौष्टिक तत्वों की पूर्ती करता है।
गर्म पानी पीने से दिल के दौरे का बचाव होता है
Shyam Singh Chandel 2019-01-22 16:47:59
मथुरा, 22 जनवरी (आरएनआई) चीनी और जापानी अपने भोजन के बाद गर्म चाय पीते हैं, ठंडा पानी नहीं। चलिए अब हम भी इनकी यही आदत निकाल लेते हैं। जो लोग भोजन के बाद ठंडा पानी पीना पसंद करते हैं, यह लेख उनके लिए है। खाने के साथ ठंडा ठंडा पेय या पानी पीना बहुत हानिकारक होता है क्योंकि ठंडा पानी ठोस खाद्य पदार्थों को आपके खाने के घी या तेल में बदल देता है जिसे आपने अभी खाया है। इससे पाचन बहुत धीमा हो जाता है। जब यह शरीर के अंदर कार्य करता है, तो यह टूट जाता है और जल्द ही यह ठोस भोजन आंतों द्वारा तेजी से अवशोषित कर लिया जाता है। यह आंतों में जमा हो जाता है। जल्द ही यह वसा में बदल जाता है और कैंसर का कारण बनता है। इसलिए भोजन के बाद गर्म पानी या गर्म पानी पीने का सबसे अच्छा तरीका है। सोने से ठीक पहले एक गिलास गर्म पानी पीना चाहिए। इससे आपको खून की कमी नहीं होगी और आप दिल के दौरे से बच जाएंगे।
थायराइड की समस्या से निजात पाने के उपाय
Shyam Singh Chandel 2019-01-06 10:59:01
मथुरा, 6 जनवरी (आरएनआई) थायराइड एक एसा रोग है जिसमें लक्षण शुरूआत में दिखाई नहीं देते हैं। यह थायरॉयड ग्रंथि का आम विकार है। थायराइड हार्मोंन शरीर के पाचन तन्त्र तथा शरीर के लगभग हर अंग प्रणाली के विनियमित को प्रभावित करता है। इस रोग मे शरीर के अंग तेज या धीमी गति से काम करते हैं। इसमें शरीर की ऑक्‍सीजन की खपत और हीट के उत्‍पादन को विनियमित करता है।
सेहतमन्द कैसे बने रह सकते हैं?
Shyam Singh Chandel 2019-01-06 09:58:10
मथुरा, 6 जनवरी (आरएनआई) सेहतमन्द कैसे बने रह सकते हैं?
जानिये मिजिल्स रूबेला टीकाकरण आखिर क्या है..? क्या है इसके लक्षण, क्या हैं इसके उपाय आइये बताते हैं आपको...
Rama Shanker Prasad 2018-12-25 08:55:33
आरा, 25 दिसंबर (आरएनआई)। रूबेला एक संक्रमण से होने वाली बीमारी है जो जीनस रुबिवायरस के वायरस द्वारा होता है। रुबेला संक्रामक है लेकिन प्राय: हल्का वायरल संक्रमण होता है। हालांकि रुबेला को कभी-कभी “जर्मन खसरा” भी कहते हैं, रुबेला वायरस का खसरा वायरस से कोई संबंधित नहीं है।

Top Stories

Home | Privacy Policy | Terms & Condition | Why RNI?
Positive SSL